Chankya Niti

Chanakya Niti:स्त्री हो या पुरुष हमेशा अकेले में ही करे ये काम,रिश्ते मे कभी नहीं आएगी खटास

चाणक्य ने कहा है कि किसी भी तरह की तपस्या हमेशा पुरुषों और स्त्री को अलग-अलग करनी चाहिए और ऐसा न करने से ध्यान भटकता है।

Chanakya Niti: चाणक्‍य ने पुरुषों और स्त्री को कुछ खास कामों के बारे में बताया है जो उन्‍हें हमेशा अलग-अलग करना चाहिए। आइये इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

अक्सर कहा जाता है कि कोई भी काम साथ मिलकर करना चाहिए और इससे काम आसान हो जाता है, लेकिन चाणक्य ने कुछ ऐसे कामों का जिक्र किया है, जिन्हें हमेशा स्त्री और पुरुष को अलग-अलग ही करना चाहिए।

अगर पुरुष और स्त्री एक साथ ये काम करते हैं तो मुसीबत में पड़ सकते हैं। तो आइए आपको बताते हैं कि वो कौन सी 3 चीजें हैं जो पुरुषों और स्त्री को हमेशा अलग-अलग करनी चाहिए।

स्त्री हो या पुरुष हमेशा अकेले में ही करे ये काम,रिश्ते मे कभी नहीं आएगी खटास

कभी भी एक साथ तपस्या न करें
चाणक्य ने कहा है कि किसी भी तरह की तपस्या हमेशा पुरुषों और स्त्री को अलग-अलग करनी चाहिए और ऐसा न करने से ध्यान भटकता है।चाणक्य नीति के अनुसार यदि तपस्या से लक्ष्य की प्राप्ति करनी हो तो स्त्री-पुरुष को कभी भी एक साथ तपस्या नहीं करनी चाहिए।

अलग से पढ़ाई करें
चाणक्य के अनुसार, यदि दो या दो से अधिक लोग एक साथ पढ़ते हैं तो इससे ध्यान भटक जाता है, इसलिए कभी भी बहुत सारे लोगों को एक साथ नहीं पढ़ना चाहिए। ऐसे में अगर सही तरीके से पढ़ाई करनी है तो पुरुषों और महिलाओं को अलग-अलग बैठना चाहिए।

एक दूसरे के सामने कपड़े न बदलें
चाणक्य के अनुसार स्त्री-पुरुष को कभी भी एक-दूसरे के सामने कपड़े नहीं बदलने चाहिए।चाणक्य भी कहते हैं कि कभी भी उस स्त्री या लड़की की तरफ न देखे जब वह अपने कपड़े बदल रही हो या ठीक कर रही हो।

यह काम हमेशा साथ मिलकर करना चाहिए
चाणक्य के अनुसार कभी भी किसी से लड़ाई-झगड़ा नहीं करना चाहिए बल्कि जब ऐसी स्थिति आ जाए तो कभी भी किसी से लड़ने के लिए अकेले नहीं जाना चाहिए।किसी भी लड़ाई में, जिसके पास सबसे अधिक संख्या होती है वह जीतता है। इसलिए, जब भी आप किसी से लड़ने जाएं तो जितना संभव हो उतने लोगों को ले जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button