Chankya Niti

Chanakya Niti:चरित्रहीन स्त्री में बचपन से पाई जाती हैं ये आदतें,पहचानने का ये है आसान तरीका

चाणक्य नीति के अनुसार जिन स्त्री की गर्दन छोटी होती है, वे किसी भी पूर्ति के लिए दूसरों पर निर्भर रहती हैं। जिस स्त्री की गर्दन 4 अंगुल से अधिक लंबी हो वह अपने ही कुल के विनाश का कारण बनती है।

Chanakya Niti:कहते हैं स्त्री को पहचानना आसान नहीं होता।इसीलिए कहा गया है कि ‘जो जग में नारी-चरित्र को पहचानता है, वह तो सिर्फ भगवान है ‘।

चाणक्य नीति के अनुसार स्त्री को कोई नहीं समझ सकता।भारत में स्त्री को देवी का दर्जा दिया जाता है, लेकिन समय-समय पर इस देवी का समाज द्वारा दुरुपयोग किया जाता है। प्रकृति ने स्त्री को कोमलता, नम्रता और प्रेम के गुण प्रचुर मात्रा में दे रखे है ।ये सभी गुण हर स्त्री में देखने को मिलते हैं।

जैसा कि कहा जाता है कि हाथों की पांचों उंगलियां एक बराबर नहीं होतीं, ठीक वैसे ही जैसे जरूरी नहीं कि हर स्त्री प्रेम की मूर्ति हो। हमारा समाज स्त्री को परिवार की इज्जत मानता है। स्त्री को यह सुनिश्चित करने की भी जिम्मेदारी दी जाती है कि परिवार के सम्मान को ठेस न पहुंचे।

चाणक्य ने अपनी पुस्तक चाणक्य नीति में चरित्रहीन स्त्री के बारे में कई ऐसी बातों का जिक्र किया है।चाणक्य ने अपनी पुस्तक में उन स्थितियों के बारे में लिखा है जो आज भी देखी जा सकती हैं। इसी तरह चाणक्य ने स्त्री के बारे में कुछ ऐसी बातें बताई हैं जिन्हें जानकर आप किसी भी चरित्रहीन स्त्री के प्यार में धोखा नहीं खाएगे ।

चाणक्य नीति के अनुसार, ऐसे कई तरीके हैं जिनसे किसी स्त्री के चेहरे, आचरण और व्यवहार को देखकर उसके स्वभाव का पता लगाया जा सकता है। स्त्री के चेहरे और शरीर पर कुछ ऐसे लक्षण मोजूद होते हैं जो एक तरफ तो उन्हें लक्ष्मी का दर्जा दिलाते हैं तो वहीं दूसरी तरफ ऐसे लक्षण अशुभ कहे जाते हैं।

ये स्त्री अपने दिल और जुबान में सामंजस्य नहीं बिठा पाती है चाणक्य के अनुसार जिन स्त्री की गर्दन छोटी होती है, वे किसी भी चीज की पूर्ति को पूरा करने के लिए दूसरों पर निर्भर रहती हैं। उनके दिमाग में कुछ और और जुबान पर कुछ और चल रहा होता है। चरित्रहीन स्त्री को एक से अधिक पुरुषों के साथ संबंध बनाने में शर्म नहीं आती है । ऐसी स्त्री के कई पुरुष मित्र होते हैं।

ऐसी स्त्री शातिराना ढंग से सभी को अपने प्रेम जाल में फंसा लेती हैं। ऐसी स्त्री प्यार का इजहार किसी और से करती हैं और प्यार किसी और से करती हैं। ऐसी स्त्री को अक्सर लोगों को रिझाते हुए देखा जा सकता है।

ऐसी स्त्री पूरी कोशिश करती हैं कि लोग उन्हें देखें। इसके लिए वह किसी भी हद तक जा सकती है। चरित्रहीन स्त्री किसी एक पुरुष की नहीं होतीं।उनका बॉयफ्रेंड अपनी ज़रूरतों के हिसाब से बदल जाते है।

चाणक्य नीति के अनुसार जिन स्त्री की गर्दन छोटी होती है, वे किसी भी पूर्ति के लिए दूसरों पर निर्भर रहती हैं। जिस स्त्री की गर्दन 4 अंगुल से अधिक लंबी हो वह अपने ही कुल के विनाश का कारण बनती है।

जिन स्त्री के पैर पीछे की ओर से अत्यधिक मोटे होते हैं, वे घर के लिए अशुभ मानी जाती हैं। इसके विपरीत यदि पैर का पिछला हिस्सा बहुत पतला या सूखा हो तो ऐसी स्त्री को जीवन में कई तरह की समस्या का सामना करना पड़ता है।

चाणक्य नीति के अनुसार जिस स्त्री के पैर की छोटी उंगली जमीन को न छूती हो और जिसकी अनामिका उंगली अंगूठे से ज्यादा लंबी हो, उसका चरित्र परिस्थितियों के अनुसार बदल जाता है। ऐसी स्त्री स्वभाव में बहुत क्रोधी होती हैं।उन्हें नियंत्रित करना बहुत कठिन है। उनके चरित्र पर कभी भरोसा नहीं किया जा सकता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button